Usne Gandhi Ko Kyon Mara book by Ashok Kumar Pandey

Usne Gandhi Ko Kyon Mara: गांधी की हत्या को सही ठहराने वाले आरोपों की तह में जाकर उनकी तथ्यपरक पड़ताल करते हुए न केवल उस गहरी साज़िश के अनछुए पहलुओं का पर्दाफ़ाश करती है बल्कि उस वैचारिक षड्यंत्र को भी खोलकर रख देती है जो अंतत: गांधी हत्या का कारण बना.

usne gandhi ko kyon mara by ashok pandey buy on amazon

Usne Gandhi Ko Kyon Mara: 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की जयंती होती है. इस मौके पर अशोक कुमार पांडेय की तीसरी किताब ‘उसने गांधी को क्यों मारा’ (Usne Gandhi Ko Kyon Mara) लॉन्च हुई.

About the Author Ashok Kumar Pandey

अशोक कुमार पांडेय (Ashok Kumar Pandey) कश्मीर के इतिहास और समकाल के विशेषज्ञ के रूप में सशक्त पहचान बना चुके हैं. इनका जन्म 24 January, 1975 को पूर्वी उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मऊ (Mau) ज़िले के सुग्गी चौरी गाँव (Suggi Chauri Village) में हुआ.
ये गोरखपुर विश्वविद्यालय (Gorakhpur University) से अर्थशास्त्र (Economics) में परास्नातक (Masters) हैं. कविता, कहानी और अन्य कई विधाओं में लेखन के साथ-साथ अनुवाद कार्य भी करते हैं. कथेतर विधा में इनकी पहली शोधपरक पुस्तक ‘कश्मीरनामा’ (Kashmirnama) बहुत चर्चा में रही. इसी साल राजकमल (Rajkamal Prakashan) से प्रकाशित किताब ‘कश्मीर और कश्मीरी पंडित’ (Kashmir aur Kashmiri Pandit) के अब तक तीन संस्करण प्रकाशित हो चुके हैं.

Ravish Kumar About Usne Gandhi ko Kyon Mara

रवीश कुमार (Ravish Kumar NDTV Journalist) ने अपने एक इंस्टाग्राम पोस्ट (Instagram Post) में इस किताब को लेकर कहा, उसने गांधी को क्यों मारा (Usne Gandhi ko Kyon Mara) ? अशोक कुमार पांडेय (Ashok Kumar Pandey) की यह किताब आ गई है. आपके पास होनी चाहिए. गांधी (Gandhi) की हत्या आज भी जारी है. झूठ और अफ़वाहों से लोगों के दिमाग़ में नफ़रत भरी जा रहे है. ऐसी किताबों से दो तरह के लोगों को डर लगता है. एक जो अफ़वाहों से गांधी को मारते हैं और दूसरा जो अफ़वाहों की चपेट में आते हैं. यह किताब आपको वहाँ ले जाएगी जहां से हत्या की सोच की बुनियाद नज़र आती है. मात्र 299 की है. राजकमल प्रकाशन (Rajkamal Prakashan) की है. एमेज़ान (Amazon) पर उपलब्ध है।

View this post on Instagram

उसने गांधी को क्यों मारा ? अशोक कुमार पांडेय की यह किताब आ गई है। आपके पास होनी चाहिए।गांधी की हत्या आज भी जारी है। झूठ और अफ़वाहों से लोगों के दिमाग़ में नफ़रत भरी जा रहे है। ऐसी किताबों से दो तरह के लोगों को डर लगता है। एक जो अफ़वाहों से गांधी को मारते हैं और दूसरा जो अफ़वाहों की चपेट में आते हैं। यह किताब आपको वहाँ ले जाएगी जहां से हत्या की सोच की बुनियाद नज़र आती है। मात्र 299 की है। राजकमल प्रकाशन की है। एमेज़ान पर उपलब्ध है।

A post shared by रवीश कुमार (@ravishndtv) on

About the Book Usne Gandhi Ko Kyon Mara:

यह किताब जहाँ एक तरफ़ गांधी (Gandhi) पर अफ़्रीका में हुए पहले हमले से लेकर गोडसे (Godse) द्वारा उनकी हत्या के बीच गांधी के पूरे राजनैतिक जीवन में उन पक्षों पर विस्तार से बात करती है जिनकी वजह से दक्षिणपंथी ताक़तें उनके ख़िलाफ़ हुईं तो दूसरी तरफ़ उन पर हुए हर हमले और अंत में हुई हत्या की साज़िशों का पर्दाफ़ाश करती है.

दस्तावेज़ों की व्यापक पड़ताल से यह उन व्यक्तियों और समूहों के साथ-साथ उन कारणों को स्पष्ट रूप से सामने लाती है जिनकी वजह से गांधी की हत्या हुई.

साथ ही, गांधी की हत्या को सही ठहराने वाले आरोपों की तह में जाकर उनकी तथ्यपरक पड़ताल करते हुए न केवल उस गहरी साज़िश के अनछुए पहलुओं का पर्दाफ़ाश करती है बल्कि उस वैचारिक षड्यंत्र को भी खोलकर रख देती है जो अंतत: गांधी हत्या का कारण बना.

Buy Usne Gandhi Ko Kyon Mara Book on Amazon

इस किताब को ज़रूर पढ़ना चाहिए. क्योंकि फेक न्यूज़ (Fake News) के ज़माने में आपको तथ्य तोड़-मरोड़ कर पेश किए जाते हैं. जिससे आप भ्रमित हो जाते है. इस किताब की कीमत मात्र 299 रुपये है. किताब अमेज़न (Amazon) पर उपलब्ध है. इस किताब को अमेज़न (Amazon) से खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करें! Click on the Book icon.

Our editors independently selected the book because we think you will enjoy reading them and might like them at these prices. If you purchase something through our links, we may earn a commission. Pricing and availability are accurate as of publish time. 

Read Also | Jamia Millia Islamia बड़े पैमाने पर मनाएगी Mahatma Gandhi की 151 वीं जयंती