Pic Courtesy: Getty Images

सोशल मीडीया मंच खास कर ट्विटर, व्हाट्सएप और फेसबुक फर्जी खबरों के प्रसार से जूझ रहे है. इन मंच के लिए यह एक बड़ी समस्या है.

अप्रैल की शुरुआत में हुए एक अध्ययन में यह दावा किया गया था कि पिछले 30 दिन में दो में से एक व्यक्ति को सोशल मीडीया मंच के जरिए फर्जी खबर मिली.

माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट, ट्विटर अपने मंच पर एक नया फीचर जोड़ रहा है जिसके ज़रिये उपयोक्ता मतदान और चुनावों संबंधी भ्रामक सामग्रियों की शिकायत कर पायेगा. सोशल मीडिया मंच ने फेक न्यूज़ और गलत जानकारियों को अपने मंच से दूर रखने के लिए ये कदम उठाए हैं.

ट्विटर ने बुधवार को बयान जारी कर बताया कि इस नये फीचर के ज़रिए कोई भी व्यक्ति किसी भी तरह की आपत्तिजनक सामग्री की शिकायत कर सकता है.

तो वहीं सरकार ने भी इन सोशल मीडिया कंपनियों को आगाह किया है कि चुनावों को प्रभावित करने के लिए इन मंचों के किसी भी तरह के दुरुपयोग को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

इस फीचर की शुरुआत 25 अप्रैल को की जाएगी. इस फीचर की शुरुआत भारत में चल रहे लोकसभा के चुनावों के बीच हो रही हैं.

ट्विटर इंडिया ने ट्वीट कर बताया कि, “सार्वजनिक बातचीत के स्वास्थ्य की रक्षा करना हमारा एक मात्र मिशन है. चुनाव के दौरान यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है. यही कारण है कि हम एक नया रिपोर्टिंग फीचर शुरू कर रहे है जिससे मतदान के दौरान लोगों को भ्रमित करने के प्रयासों से निपटा जा सके.”

29 अप्रैल को यूरोपीय संसद का का भी चुनाव होना है. ट्विटर के मुताबिक यह फीचर विश्वभर में होने वाले चुनावों में काम करेगा.