Sadaf Jafar anti caa nrc protest

Sadaf Jafar: लख़नऊ की एक सत्र अदालत ने शनिवार को नागरिकता क़ानून (CAA) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा के संबंध में ऐक्टिविस्ट और कांग्रेस कार्यकर्ता सदफ जाफर (Sadaf Jafar), पूर्व आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी ( S R Darapuri) और 10 अन्य को जमानत दे दी है.

19 दिसंबर को लख़नऊ में विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा में कथित संलिप्तता के लिए अदालत ने उन्हें 50,000 रुपये के निजी मुचलके पर जमानत दी.

आदेश के अनुसार, उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) जफर, दारापुरी और अन्य लोगों के खिलाफ किसी भी प्रत्यक्ष सबूत को विरोध प्रदर्शन के दौरान बर्बरता और आगजनी में उनकी भूमिका के लिए प्रस्तुत करने में विफल रही.

सदफ को 19 दिसंबर को गिरफ्तार किया गया था, जब वह उस जगह से फेसबुक पर लाइव (Facebook Live) थी, जहां नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया था. पुलिस ने कहा था कि उसे संघर्ष में शामिल होने के लिए गिरफ्तार किया गया था.

सदफ के वकील हरजोत सिंह ने शनिवार को जमानत देने वाली अदालत का आभार व्यक्त किया क्योंकि यह अगले दिन बंद रहेगी. उनके वकील ने कहा, “उम्मीद है कि सदफ सोमवार को जेल से बाहर आ सकेंगी.

दर्ज की गई एफआईआर (FIR) सामान्य थी और 407 से अधिक लोगों को 307 (हत्या के प्रयास) जैसे गंभीर मामलों में फंसाया गया था. पुलिस किसी भी आरोप को साबित करने में विफल रही.

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश एसएस पांडे की अदालत ने उनकी व्यक्तिगत दलीलों के साथ-साथ सरकारी वकील को भी प्रस्तुत किया. जिन लोगों की दलीलें सुनी गईं उनमें मोहम्मद नसीम, मोहम्मद शोएब, नफीस, पवन राय अंबेडकर, शाह फैज और मोहम्मद अजीज हैं.

सरकारी वकील दीपक यादव के अनुसार, हजरतगंज पुलिस ने उन्हें भारतीय दंड संहिता (IPC), सार्वजनिक संपत्ति अधिनियम को नुकसान पहुंचाने और आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम, 1932 की धारा 7 के तहत विभिन्न धाराओं के तहत गिरफ्तार किया था.

Read also: दिल्ली में ठंड ने 119 वर्षों का रिकोर्ड तोड़ा, मगर शाहीन बाग़ की महिलाओं का हौसला नहीं