Jamia: परीक्षा के मौसम में छत्रों की अग्नि परीक्षा; देश और संविधान बचाने के लिए प्रदर्शन

Jamia Millia Islamia: देश भर में परीक्षा का मौसम चल रहा है. मगर देश के कुछ जाने-माने शिक्षण संस्थानों को करना पड़ रहा है प्रदर्शन. जहाँ एक ओर JNU के छत्रों ने अपनी फ़ीस वृद्धि को लेकर विरोध प्रदर्शन किया, तो वहीं पड़ोसी IIMC के छात्रों ने भी फ़ीस वृद्धि को लेकर प्रदर्शन किया. उल्लेखनीय है कि पिछले 12 दिनों से धरने पर बैठे IIMC के छात्रों की माँगे अभी पूरी नहीं हुई हैं. उनका प्रदर्शन अभी भी जारी है.

हाल ही में नागरिकता शंशोधन विधेयक पर राष्ट्रपति ने भी अपनी मोहर लगा दी, जिसे लेकर देशव्यापी विरोध प्रदर्शन चल रहा है. असम की Cotton University से लेकर Aligarh Muslim University और Jamia तक इस ऐक्ट के विरोध प्रदर्शन चल रहा है. दिल्ली के जंतर-मंतर पर भी लोगों ने इसका विरोध किया.

जामिया में गुरुवार से शुरू हुआ ये विरोध प्रदर्शन शनिवार को भी अपने पूरे शबाब पर रहा. विश्वविद्यालय में तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए सभी परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया. CAB और NRC के खिलाफ छात्रों के विरोध के कारण विश्वविद्यालय प्रसाशन ने शनिवार को 5 जनवरी तक की छुट्टी की घोषणा कर दी.

शनिवार को छत्रों ने विश्वविद्यालय परिसर में शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन किया. CAB और NRC के ख़िलाफ़ जमकर नारेबाज़ी हुई और मार्च निकाला गया. छात्रों ने विश्वविद्यालय की दीवारों पर चित्र बनाए और CAB और NRC विरोधी संदेश लिखा.

विश्वविद्यालय के बाहर भी लोग जमा होकर प्रदर्शन करते दिखे जिसके चलते जामिया के मेट्रो स्टेशन पर एंट्री और एग्ज़िट की सुविधा प्रतिबंधित रही.

विश्वविद्यालय के छत्रों का कहना है कि CAB और NRC असंवैधानिक है, और हम चाहते है की सरकार इसे वापस ले. यह ऐक्ट धर्म के आधार पर बना है और पक्षपात करता है. इसलिए हम इसका विरोध कर रहे है. हम देश और संविधान को बचाने का संघर्ष कर रहे हैं.

हालाँकि, शुक्रवार को शांतिपूर्ण तरीक़े से किए जा रहा यह विरोध प्रदर्शन हिंसक हो उठा था. छत्रों को संसद मार्च निकालने से रोकने में दिल्ली पुलिस और छत्रों के बीच झड़प हो गयी. जिसके चलते कई छात्र गम्भीर रूप से घायल भी हुवे थे.