9 Baje 9 Minute: डिजिटल इंडिया में छात्र-नेता नही हैश-टैग बुलंद कर रहा है छात्रों की आवाज़

ट्विटर पर अपील की गयी है कि 9 सितम्बर, रात 9 baje 9 minute निजीकरण व बेरोजगारी के विरोध में अपनी घर की लाइट बंद करें. दीपक, मोमबत्तियां, मोबाइल की टॉर्च जलाये.

9 baje 9 minute students protest

9 Baje 9 Minute: हाल ही में सोशल मीडीया साइट ट्विटर पर #SpeakUpForSSCRailwayStudents हैशटैग चला था, जो सिर्फ भारत में ही नही बल्कि पूरे विश्व में नंबर वन पर ट्रेंड हुआ था. इसके बाद कर्मचारी चयन आयोग (SSC) ने कुछ परीक्षाओं के रिजल्ट की तारीखों का ऐलान भी किया. अब रेलवे की परीक्षाओं की तारीख भी आ गई है.

9 September को रात 9 बजे से 9 मिनट (9 Baje 9 Minute) तक लाइट बन्द करके, टोर्च, दीपक, मोबाइल फ़्लैश जला कर छात्र, बेरोज़गार युवा अपना विरोध दर्ज करेंगे.

देश की मुख्यधारा मीडिया ने भी छात्रों की आवाज़ को नही उठाया. जिससे छात्रों का गुस्सा मीडिया पर भी फूट पड़ा. छात्रों का मानना है कि जब प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने थाली बज़वाई थी तो मीडिया ने बड़े ज़ोर-शोर से इसको कवरेज दिया था. मगर जब आज छात्र अपनी हक़ की आवाज़ उठा रहें हैं तो मीडिया उनका साथ नही. दे रहा है. इसलिए उनको सोशल मीडिया प्लॅटफॉर्म का सहारा लेना पड़ रहा है.

पिछले कुछ हफ्तों से छात्रों की तरफ से केंद्र सरकार के खिलाफ सांकेतिक विरोध दर्ज किया जा रहा है. इसी विरोध के चलते छात्रों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कई यूट्यूब वीडियो को डिसलाइक करना शुरू कर दिया था.

पूरा दिन #5Baje5Min, #5Sep5Min, #5बजे5मिनट, #RRBExamDate जैसे हैशटैग करते रहे ट्रेंड

5 सितंबर को शिक्षक दिवस होता है, और इस दिन सोशल मीडिया पर तमाम ऐसे वीडियो और पोस्ट किए गए जिसमे परीक्षार्थियों ने शाम 5 बजे, 5 मिनट के लिए ताली-थाली पीटी, घंटी और शंख बजा कर अपना विरोध दर्ज कर कई जगह सड़कों पर भी उतरे.

ऐसे में जब छात्र नेता ही छात्रों की आवाज़ नही बन पा रहे है, तो डिजिटल इंडिया के छात्र खुद ही अपनी आवाज़ बुलंद करना सीख गये हैं. जी हां वो अपनी आवाज़ हैश-टैग के ज़रिए बहरी बनी सरकारो को सुनने की कोशिश कर रहे हैं.

और यह ट्रेंड की आवाज़ असर भी कर रही है. इतना कि सरकार को रेलवे परीक्षाओं का ऐलान करना पड़ गया. शनिवार शाम 6 बजे के करीब केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के ट्विटर अकांउट से जानकारी दी गई कि परीक्षाएं 15 दिसंबर से होंगी. ट्वीट में वीडियो के साथ लिखा गया. जिसे एक तरह से छात्रों की जीत मानी जा रही है.

5 सितंबर, 5 बजे, 5 मिनट की सफलता के बाद अबकी बार 9 सितम्बर को रात 9 बजे से 9 मिनट तक लाइट बन्द करके, टोर्च, दीपक, मोबाइल फ़्लैश जला कर छात्र, बेरोज़गार युवा अपना विरोध दर्ज करेंगे. ट्विटर पर अपील की गयी है कि 9 सितम्बर, रात 9 बजे निजीकरण व बेरोजगारी के विरोध में अपनी घर की लाइट बंद करें. दीपक, मोमबत्तियां, मोबाइल की टॉर्च जलाये.

Read also: JEE NEET: Coronavirus के चलते परीक्षा स्थगित करने की मांग को लेकर पूरे भारत मे छात्र सत्याग्रह