Save Jauhar University: जब मुसलमान अपनी संस्थान स्वयं बना रहे है तो सरकार उसे तोड़ रही है

Save Jauhar University: डिस्ट्रिक्‍ट कोर्ट ने जौहर यूनिवर्सिटी और आजम खान पक्ष की अपील खारिज करते हुए एसडीएम कोर्ट का फैसला बरकरार रखा. इसके बाद Rampur स्थित मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी का गेट टूटने रास्‍ता साफ हो गया है.

Save Jauhar University
Save Jauhar University Trends on Twitter

Save Jauhar University: Juahar University के गेट प्रकरण में Azam Khan को अदालत से बड़ा झटका लगा है. सोमवार को डिस्ट्रिक्‍ट कोर्ट ने जौहर यूनिवर्सिटी और आजम खान पक्ष की अपील खारिज करते हुए एसडीएम कोर्ट का फैसला बरकरार रखा. इसके बाद Rampur स्थित मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी का गेट टूटने रास्‍ता साफ हो गया है.

हाई कोर्ट ने आजम खान की याचिका खारिज करते हुए उन्हें जिला जज की कोर्ट में अपील दायर करने को कहा था. सोमवार को जिला जज की कोर्ट ने भी उनकी अपील खारिज करते हुए एसडीएम सदर कोर्ट के फैसले को बरकरार रखा.

Save Jauhar University Trends on Twitter:

कोर्ट के फ़ैसले के बाद, सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर लोगो ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया. विरोध कर रहे लोगों का कहना है कि मुस्लिम यूनिवर्सिटी होने के कारण इसको निशाना बनाया जा रहा है.

ट्विटर पर विरोध कर रहे लोगों का साफ कहना है कि जिस तरह से पहले Jamia और AMU पर हमला किया गया था. उसी तरह इस विश्वविद्यालय की मुस्लिम पहचान होने के कारण ये निर्णय लिया गया है.

यूनिवर्सिटी के पक्ष में पेशे से वकील अनस तनवीर ने ट्वीट करते हुए कहा, “सारी तकलीफ हमारी पढ़ाई और तरक्की से है असल मे”.

रिसर्च स्कॉलर तारिक़ अनवर ने विश्विधयालया के पक्ष मे ट्वीट करते हुए कहा है, “अपने नागरिकों को शिक्षा देना स्टेट की जिम्मेदारी है. लेकिन देश का मुसलमान शिक्षा जैसी बुनियादी सुविधाओं से भी वंचित किया जा रहा है. ऐसे में जब देश मुसलमान अपनी शिक्षा की व्यवस्था स्वयं करता है तब सरकार उन संस्थानों को बर्बाद करना शुरू कर देती है”.

अगर भारत का मुसलमान अशिक्षित है तो यह स्टेट की असफलता है. ऐसे में तो मुसलमान स्वयं का शैक्षणिक संस्थान बनायेगा ही. एक तरफ़ सरकार शैक्षणिक सुविधायें नहीं दे रही है दूसरी तरफ़ जब मुसलमान अपनी संस्थान स्वयं बना रहे है तो सरकार उसे तोड़ रही है. यह नांइन्साफी है! उन्होने आगे कहा.

टीपू सुल्तान पार्टी ने भाजपा पर इल्ज़ाम लगाते हुए कहा की उनको हमारी शिक्षा और कामयाबी से दिक्कत है.

तो वही समाजवादी पार्टी पर कटाक्ष करते हुए कहा, जौहर यूनिवर्सिटी के गेट को गिराने के फैसले पर समाजवादी पार्टी क्यों खामोश है ?

तो वही कुछ छात्रों का कहना है कि शैक्षिक संस्थानो का नुकसान नही किया जाना चाहिए.

 

Read More: लखनऊ में कैब ड्राइवर को पीटने वाली युवती पर पुलिस ने लिया एक्शन

+ posts