Farm Bill 2020: माइक तोड़ा, काग़ज़ फेंका | हंगामे के बीच कृषि विधेयक पारित

सभापति के आसन को मार्शलों ने घेर लिया था और सदन ने शोर-शराबे के बीच ध्वनिमत से विधेयकों (Farm Bills 2020) को मंजूरी दी.

farm bill 200 monsoon session of parliament

Farm Bill 2020: संसद ने रविवार 20 September को कृषि से संबंधित दो महत्वपूर्ण विधेयकों को मंजूरी दे दी. राज्य सभा (Rajya Sabha) ने कृषक उपज व्या‍पार और वाणिज्य् संवर्धन तथा सरलीकरण विधेयक 2020 (The Farmers Produce Trade and Commerce (Promotion and Facilitation) Bill, 2020) और कृषक सशक्तीजकरण तथा संरक्षण कीमत आश्वासन एवं कृषि सेवा पर करार संबंधी 2020 (The Farmers (Empowerment and Protection) Agreement on Price Assurance and Farm Services Bill, 2020) के विधेयक को विपक्षी सदस्यों के हंगामे के बीच मंजूरी दी.

लोकसभा (Lok Sabha) दोनों विधेयकों को पहले ही पारित कर चुकी है.

विपक्षी दल के सदस्य सदन के बीचों-बीच आकर विधेयकों का विरोध करते रहे. शोर-शराबे और हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही भी स्थगित करनी पड़ी.

सदन ने विधेयकों को प्रवर समिति को सौंपने के विपक्षी सदस्यों के संशोधनों को भी अस्वीकार कर दिया. राज्योसभा में विधेयकों के पारित होने के बाद सदन की कार्यवाही अनिश्चित काल के लिए स्थकगित कर दी गई.

जब सदन की फिर से बैठक हुई तो सदन के मार्शल सभापति के आसन को घेरे हुए थे और विपक्षी सदस्योंप के हंगामे और नारेबाजी के बीच सदन ने दोनों विधेयकों को पारित कर दिया.

जब कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर विधेयकों पर चर्चा का उत्त‍र दे रहे थे तो उप-सभापति हरिवंश ने कृषि मंत्री के भाषण को पूरा करने के लिए सदन की कार्यवाही एक बजे से आगे बढ़ाने के लिए सदन की सहमति प्राप्तत करनी चाही, इस पर कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, डीएमके पार्टी, वामपंथी दलों और आम आदमी पार्टी के सदस्यों ने कहा कि सदन की कार्यवाही आज के लिए स्थ्गित कर कल बहस का उत्तकर दिया जाना चाहिए.

लेकिन उप-सभापति ने कृषि मंत्री से अपना उत्ततर जारी रखने को कहा. इस पर विपक्षी सदस्य सदन के बीचों-बीच आ गये और नारेबाजी करने लगे. कुछ विपक्षी सदस्य सभापति के आसन की ओर बढ़ते हुए भी दिखाई दिए.

विपक्षी सदस्यों में से कुछ ने कागजात छीनना और फेंकना शुरू कर दिया. कुछ सदस्यों ने कुर्सी के टेबल पर लगे माइक को भी तोड़ दिया.

उप-सभापति ने सदस्योंप से अपनी सीटों पर जाने का बार-बार अनुरोध किया मगर इसका उत्तेजित सदस्यों पर कोई असर नहीं पड़ा.

शोर-शराबे के बीच उप-सभापति ने सदन की बैठक स्थगित कर दी. बैठक जब फिर शुरू हुई तो सदन का माहौल बदला हुआ था. सभापति के आसन को मार्शलों ने घेर लिया था और सदन ने शोर-शराबे के बीच ध्वनिमत से विधेयकों (Farm Bills 2020) को मंजूरी दी.

Read also | Farmers protest against Agriculture Reform Bills in Punjab, Haryana