Pic Tweeted by IAF

भारतीय वायु सेना ने शनिवार को पहला अपाचे गार्जियन अटैक हेलीकॉप्टर प्राप्त कर लिया है.

अमेरिका के एरिज़ोना में बोइंग ने यह हेलिकॉप्टर भारत को सौंपा गया.

प्रेस सूचना ब्यूरो द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, भारत का प्रतिनिधित्व एयर मार्शल एएस बुटोला ने किया था, जिन्होंने अमेरिकी सरकार के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में, पहला हेलिकॉप्टर स्वीकार किया.

एएच -64 ई अपाचे हेलिकॉप्टरों का पहला बैच इस साल जुलाई तक भेज दिया जाएगा. भारतीय वायुसेना ने 22 हेलिकॉप्टरों के लिए सितंबर 2015 में अमेरिकी सरकार और बोइंग के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किया था.

फ़िलहाल इस हेलीकॉप्टर की ट्रेनिंग के लिये चुने गए एयर और ग्राउंड क्रू की ट्रेनिंग अमेरिकी सेना के अल्बामा एयर बेस पर हो रही है.

भारतीय वायुसेना में अपाचे के आने से हेलीकॉप्टर विंग की ताकत में काफी इज़ाफ़ा होगा.

इन हेलीकॉप्टर को भारतीय वायुसेना की आवश्यकताओं के अनुरूप बनाया गया है और पहाड़ी इलाकों में इसकी महत्वपूर्ण क्षमता होगी.

अपाचे हेलीकॉप्टर से सटीक हमले किये जा सकते हैं. ये हेलीकॉप्टर भविष्य में भूमि बलों के समर्थन में एक महत्वपूर्ण बढ़त प्रदान करेंगे.

पीटीआई के मुताबिक, रक्षा मंत्रालय ने सेना के लिए 4,168 करोड़ रुपये की लागत से बोइंग के छह एएच -64 ई अपाचे हेलीकॉप्टरों, आयुध, और संबद्ध उपकरणों की खरीद को मंजूरी दी है।