PTI File Pic

नयी दिल्ली: राजधानी दिल्ली में दिवाली के दिन प्रदूषण की वजह से धुंध छा गई जिसके कारण वायु गुणवत्ता ‘‘बहुत खराब’’ स्तर पर पहुंच गयी. उच्चतम न्यायालय ने दिवाली पर पटाखा छोड़ने के लिए दो घंटे की सीमा तय की थी लेकिन लोगों ने उल्लंघन कर देर रात तक पटाखे छोड़े. लोग शाम 8:00 बजे से पहले भी पटाखे छोड़ते दिखे हांलांकि इन पटाखें की आवाज कम रही.

लोगों ने कई इलाकों में उच्चतम न्यायालय द्वारा पटाखा छोड़ने के लिए तय दो घंटे की समयसीमा का उल्लंघन करके पटाखे छोड़ने की सूचना दी.

दिल्ली की हवा में पटाखों की तेज आवाज के साथ ही जहरीला धुंआ और राख भर गया और कई स्थानों पर वायु गुणवत्ता का स्तर ‘गंभीर’ स्तर को पार गया. सरकारी एजेन्सी केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के मुताबिक सोमवार सुबह 2 बजे दिल्ली की औसत वायु गुणवत्ता का स्तर 365 पहुंच गया जबकि शनिवार को यह करीब 302 था.

उल्लेखनीय है कि पिछले साल दिवाली पर दिल्ली में वायु गुणवत्ता का स्तर सुरक्षित सीमा से 12 गुना अधिक 600 तक पहुंच गया था.

गौरतलब है कि शून्य से 50 के बीच के एक्यूआई को ‘अच्छा’, 51 से 100 को ‘संतोषजनक’, 101 से 200 को ‘मध्यम’, 201 से 300 को ‘खराब’, 301 से 400 को ‘बहुत खराब’ और 401 से 500 को ‘गंभीर’ और 500 से ऊपर को अति गंभीर आपात स्थिति की श्रेणी में रखा जाता है.