Mufti Salman Azhari को कोर्ट से मिली जमानत

Mufti Salman Azhari: मुफ्ती सलमान अजहरी से जुड़ी एक बहुत ही बड़ी खबर सामने आई है. सलमान अजहरी को कोर्ट ने जमानत दे दी है. जी हां मुफ्ती सलमान अजहरी को जमानत मिल गई है.

mufti salman azhari gets bail
mufti salman azhari gets bail

Mufti Salman Azhari: मुफ्ती सलमान अजहरी से जुड़ी एक बहुत ही बड़ी खबर सामने आई है. सलमान अजहरी को कोर्ट ने जमानत दे दी है. जी हां मुफ्ती सलमान अजहरी को जमानत मिल गई है.

आपको बता दें कि कोर्ट ने कुछ शर्तों के तहत उनको जमानत दी है. हालांकि मौलाना सलमान अजहरी अभी जेल से बाहर नहीं आ पाएंगे.

जूनागढ़ केस में मौलाना को कोर्ट से बेल मिलने के फौरन बाद गुजरात पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया है. क्योंकि उनके खिलाफ गुजरात के कच्छ जिले में एक और मामला दर्ज है फिलहाल पुलिस उनसे इस मामले में पूछताछ कर रही है.

Mufti Salman Azhari पर कोर्ट ने क्या आदेश दिया 

इस मामले में अजहरी और दो स्थानीय लोगों को आरोपी बनाया गया है. गुजरात पुलिस ने बुधवार शाम चार बजे तीन आरोपियों की एक दिन की रिमांड समाप्त होने के बाद उन्हें अदालत में पेश किया. बचाव पक्ष ने भी जमानत याचिका दायर की थी.

Mufti Salman Azhari के वकील शकील शेख ने बताया कि दोनों पक्षों को सुनने के बाद अदालत ने उन्हें 15,000 रुपये के मुचलके पर जमानत दे दी. उन्होंने कहा कि अदालत सशर्त जमानत दी है। मौलाना अजहरी कोर्ट की अनुमति के बिना देश नहीं छोड़ सकते हैं. न ही सबूत नष्ट करेंगे और अदालत को अपना आवासीय पता मुहैया कराएंगे.

अब आपको बताते हैं आखिर क्या है पूरा मामला

गुजरात पुलिस ने 31 जनवरी की रात जूनागढ़ में भी डिवीजन पुलिस थाने के पास एक खुले मैदान में आयोजित एक जलसे में कथित तौर पर नफरत की भाषण देने के इल्जाम में मौलाना अजहरी को मुंबई से गिरफ्तार किया था उनका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था जिसके बाद पुलिस ने उन पर कार्रवाई कर गिरफ्तार किया था

पुलिस ने किन धाराओं में उन पर केस दर्ज किया है

दरअसल 31 जनवरी को गुजरात के कच्छ जिले के समखीयारी इलाके में आयोजित एक जलसे में भाषण दिया था. जिसके चलते उन पर आईपीसी की धारा 153 भी और 505 दो के तहत मुकदमा दर्ज हुआ था.

जूनागढ़ एफआईआर के अनुसार, गिरफ्तार व्यक्तियों ने सभा के लिए पुलिस से यह कहते हुए अनुमति ली थी कि अजहरी धर्म के बारे में बात करेंगे और नशामुक्ति पर जागरूकता फैलाएंगे. पुलिस दस्तावेज में कहा गया है कि इसके बजाय, अजहरी ने एक भड़काऊ भाषण दिया.

Read Also: जानिए 29 फरवरी के बाद क्या होगा Paytm का? UPI और Fastag इस्तेमाल में रहेगा या होगा बेकार