मुजफ्फरनगर महापंचायत के बाद किसान आंदोलन ने फिर से पकड़ी रफ्तार
मुजफ्फरनगर महापंचायत के बाद किसान आंदोलन ने फिर से पकड़ी रफ्तार।

5 सितंबर रविवार को मुजफ्फरनगर में हुई किसान महापंचायत को मिली सफलता को देखते हुए संयुक्त किसान मोर्चा ने आगे होने वाली सभाओं को लेकर अहम एलान किए है। वह एलान कुछ इस प्रकार हैं:

•किसानों पर हुए लाठीचार्ज के विरोध में 7 सितंबर को करनाल में महापंचायत।

• लखनऊ में 9–10 सितंबर को किसान संगठनों की महा बैठक।

•15 सितंबर को जयपुर में किसान संसद।

•27 सितंबर को भारत बंध का आवाह्न।

इस महापंचायत में केंद्र सरकार द्वारा पारित किए गए कृषि कानूनों के विरोध का संकल्प दोहराया गया और किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि हम केंद्र में बैठी सरकार को वोट की चोट की ताकत दिखाएं। संयुक्त किसान मोर्चा की संरक्षता में हुई इस महापंचायत में 15 राज्यों के 300 से ज़्यादा किसान संगठनों ने शिरकत करी।

मुजफ्फरनगर महापंचायत से किसान वापस अपने घर जाते हुए।
मुजफ्फरनगर महापंचायत से किसान वापस अपने घर जाते हुए।

गौरतलब है की किसान आंदोलन लगभग 8 महीनों से जारी है लेकिन अभी तक कोई भी हल नहीं निकल सका है। किसान संगठन और कृषि मंत्री के बीच कई दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन सब विफल रहीं।

अब ये देखना काफी दिलचस्प होगा कि मुजफ्फरनगर महापंचायत के बाद किसान आंदोलन किस दिशा में जाता है और इसे कितनी मज़बूती मिलती है।

 

faraz
Faraaz
Journalism Student | iamfhkhan@gmail.com | + posts

Faraaz is pursuing Mass Communication & Journalism from BBD University Lucknow.