खुद को खिलाड़ी समझ, ओलम्पिक गोल्ड मेडल चबा गए मेयर साहब
मेयर ताकाशी कावामुरा (बाएं) मायू गोटो (दांए); तस्वीर: रायटर्स।

ओलंपिक में खिलाड़ियों की मेडल जीतके दांत से दबाते हुए फोटो खिंचवाने की परम्परा काफी पुरानी है। लेकिन, जापान में एक अलग ही किस्सा सामने आया है। हुआ यूं कि जापान की मियू गोटो सॉफ्टबॉल की खिलाड़ी हैं। टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतकर अपने देश वापस आईं मीयू के लिए 11 अगस्त को एक सम्मान समारोह रखा गया।

जापान के नागोया शहर में हुए इस सम्मान समारोह में शहर की लगभग सभी बड़ी हस्तियां शामिल हुईं। शहर के मेयर ताकाशी कावामुरा भी समारोह में आए हुए थे।

मेयर जब गोल्ड मेडलिस्ट मीयू गोटो से रूबरू हुए, तो उनसे अपना मेडल दिखाने को कहा और गोटो ने भी इंकार नहीं किया। मेडल पहनते ही मेयर साहब ने मास्क हटाया और खुद को एथलीट समझ, मेडल दांत में दबा के खराब कर बैठे।

चूंकि ये सम्मान समारोह टीवी पे भी प्रसारित हो रहा था, इसलिए मेयर के इस व्यवहार से लोगों ने खासी नाराज़गी ज़ाहिर की और सोशल मीडिया पे मामले के तूल पकड़ते ही गुरुवार को मेयर ने माफी भी मांगी। उन्होंने कहा: “ग़लती हो गई, माफ़ कर दो, मेडल के रिप्लेसमेंट का पैसा हमसे ले लो”, मेयर पर कार्यक्रम के दौरान कोविड के नियमों के उल्लंघन का आरोप भी लगा है।

12 अगस्त को इस मामले का संज्ञान लेते हुए ओलंपिक आयोजकों ने कहा कि वह मीयू गोटो को दूसरा गोल्ड मेडल देंगे। आपको बता दें की गोटो उस जापानी महिला सॉफ्टबॉल टीम का हिस्सा हैं जिसने 27 जुलाई 2021 को अमेरिका की टीम को फाइनल में 2–0 से हरा कर, टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड मेडल अपने नाम किया था।

हमारे मुताबिक, जापान के मेयर का ये बर्ताव काफी निराशाजनक है। ये काफी दुर्भाग्य की बात है की जिस मेडल को एथलीट 4 साल की कड़ी मेहनत के बाद हासिल करते हैं, उसे कुछ लोग अपनी वाह वाही की प्रदर्शनी के तौर पर इस्तेमाल करने में ज़रा भी नहीं जिझकते।

 

faraz
Faraaz
Journalism Student | iamfhkhan@gmail.com | + posts

Faraaz is pursuing Mass Communication & Journalism from BBD University Lucknow.