कहां से हुई वेलेंटाइन डे की शुरुआत और कौन थे Saint Valentine: पढ़िए History of Valentine Day

रोमन माइथोलॉजी के मुताबिक, वेलेंटाइन डे क्यूपिड (Cupid) को दर्शाता है जो की प्यार का फरिश्ता माना जाता है। क्यूपिड की मां वीनस (Venus) को गॉडेस ऑफ लव एंड ब्यूटी (Love & Beauty) कहा गया है।

SAINT VALENTINE, VALENTINE DAY KYU MANAYA JATA HAI, HISTORY OF VALENTINE DAY: कहते हैं प्यार कभी भी किया जा सकता है या कभी भी हो सकता है। लेकिन फिर भी एक तारीख, या यूं कहलें कि एक खास दिन प्यार के लिए ही जाना जाता है। समझ तो गए ही होंगे कि बात हो रही है वैलेंटाइन डे (Valentine Day) की। क्या होता है वैलेंटाइन डे पर इस्से सभी वाक़िफ हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि प्यार का दिन कहे जाने वाले वैलेंटाइन डे की बैकस्टोरी क्या है? क्यों वैलेटाइन डे 14 फरवरी को ही माना जाता है? आखिर इसकी शुरुआत कैसे हुई?

Valentine Day की बैकस्टोरी:

Valentine Day को लेकर वैसे तो कई किस्से मशहूर हैं। लेकिन इतिहासकार सबसे ज़्यादा इत्तेफाक रखते हैं जैकोबस डी वॉराजिन (Jacobus de Voragine) की 1260 में कम्पाइल की गई बुक ‘लीजेंडा ऑरिया’ (Legenda Aurea) से। इसके मुताबिक सन 269 ईस्वी में रोमन एम्पाइअर (Roman Empire) में क्लाउडियस (Emperor Claudius) नाम का शासक हुआ करता था। उसके राज में रोम (Rome) में ईसाइयों पर काफी क्रूरता और अत्याचार होते थे। उसी साम्राज्य में एक संत हुआ करते थे जिनका नाम था वेलेंटाइन (Saint Valentine)। उन्होंने ईसाइयों को अत्याचार से बचाने, क्लाउडियस (Emperor Claudius) की क्रूरता और ईसाई धर्म त्यागने का पुरज़ोर विरोध किया। जिसके बाद उन्हें बंदी बना लिया गया।

जेल में बंद रहते हुए भी संत वेलेंटाइन (Saint Valentine) ने अपनी अच्छाई की आदत नहीं छोड़ी। मरने से पहले उन्होंने जेलर की अंधी बेटी की आंखों की रौशनी और सुनने की शक्ति लौटाई। साथ ही बेटी को एक लेटर भी लिखा जिसके आखिर में नोट था “योर वेलेंटाइन” (Your Valentine)। माना जाता है जिस दिन उन्हें साम्राज्य द्वारा मारा गया या सूली पर चढ़ाया गया, वो तारीख थी 14 फरवरी (14 February)। 

 Saint Valentine (Source: Assumption University Website)
Saint Valentine (Source: Assumption University Website)

वेलेंटाइन संत (Saint Valentine) को लेकर एक पहेली ये भी:

लीजेंडा ऑरिया (Legend Aurea) के मुताबिक, संत वेलेंटाइन (Saint Valentine) को वेलेंटाइन डे (Valentine Day) से जोड़ता एक और किस्सा है। इसके मुताबिक रोमन (Roman) शासक क्लाउडियस II प्यार और शादी से बड़ी नफरत करता था। उसका कहना था ये भावनाएं और चीज़ें एक मर्द को कमज़ोर बनाती हैं। इससे सैनिकों का ध्यान बंटेगा और जंग में काफी नुकसान हो सकता है। संत वेलेंटाइन (Saint Valentine) ने शासक क्लाउडियस (Emperor Claudius) के खिलाफ जाकर कई शादियां कराईं। इससे जलबलाए शासक ने, मोहब्बत की दुकान खोलने वाले संत को बंदी बनाकर मौत की सज़ा दे दी। कहते हैं जिस दिन उन्हें मौत दी गई वो तारीख 14 फरवरी (14 February) ही थी। बता दें ये किस्सा भी हिस्टोरियंस में आज भी बहस का मुद्दा है।

कहां से हुई 14 फरवरी को वेलेंटाइन डे मनाने की शुरुआत? (History of Valentine Day)

संत वेलेंटाइन (Saint Valentine) की थियरी तो आपने अभी तक पढ़ी। लेकिन इतिहासकारों के मुताबिक, इसका संबंध लुपरकेलिया के रोमन फेस्टिवल से है जो की फरवरी के मध्य में मनाया जाता था। ये बसंत का मौसम माना जाता है। इस दौरान स्त्री और पुरुष का जोड़ा लॉटरी निकलकर बनता था। चौथी–पांचवी शताब्दी के अंत तक जैसे जैसे ईसाई धर्म रोम में फैला। पोप गिलेसियस–I ने इसे संत वेलेंटाइन के साथ जोड़ दिया। कैथोलिक चर्च के मुताबिक वेलेंटाइन नाम के कई संत हैं। जो कि ईसाई धर्म की रक्षा के लिए शहीद हुए। 

रोमन माइथोलॉजी के मुताबिक, वेलेंटाइन डे क्यूपिड (Cupid) को दर्शाता है जो की प्यार का फरिश्ता माना जाता है। क्यूपिड की मां वीनस (Venus) को गॉडेस ऑफ लव एंड ब्यूटी (Love & Beauty) कहा गया है। इसीलिए जिस तस्वीर में क्यूपिड (Cupid) को दिल में तीर से निशाना साधते हुए दिखाया गया है। उसका मतलब है दिल में भेद करके प्यार (Love) भरना।

Cupid
Cupid

(DISCLAIMER: ऊपर दी गई सभी जानकारी इंटरनेट पर मौजूद आर्टिकल और इनपुट से जुटाई गईं हैं। इसे लिखने वाला ऑथर या वेब साइट हर एक जानकारी की पुष्टि नहीं करते हैं। किसी भी निष्कर्ष पर पहुँचने से पहले प्रसिद्ध इतिहासकार से सलाह मशवरा ज़रूर करें)


ये भी पढ़ें: फ़िर से सड़क पर क्यों उतर रहे हैं किसान? दिया “Delhi Chalo” का नारा; जानिए Kisan Andolan 2.0 के बारे में सब कुछ