नीतीश कुमार ने कहा है बख्तियारपुर उनका जन्मस्थान है , उसी का नाम कैसे बदल दें।
नीतीश कुमार ने कहा है बख्तियारपुर उनका जन्मस्थान है , उसी का नाम कैसे बदल दें।

जैसा की सभी को पता है उत्तर प्रदेश में शहरों और ज़िलों का नाम बदलने का ट्रेंड चल रहा है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने पिछले 4 सालों मे इलाहाबाद का नाम प्रयागराज, फैज़ाबाद ज़िले का नाम अयोध्या और मुग़लसराय स्टेशन का नाम पंडित दिन डायल उपाध्याय कर दिया है। हाल ही में अलीगढ़ का नाम हरिगढ़ करने की भी चर्चाएँ ज़ोरों पर हैं।

इसी क्रम में जब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बख्तियारपुर का नाम बदलने को लेकर सवाल पूछा गया, तो उन्होंने कहा:

”क्या फालतू बात है बख्तियारपुर का नाम काहे बदलेगा? मेरा जन्मस्थान बख्तियारपुर है, उसी का नाम बदलेगा ? क्या बात करते हैं, बख्तियायरपुर के बारे मे बिना मतलब के बात करता रहते हैं “

सोमवार को जनता दरबार में नीतीश कुमार ने मीडिया कर्मियों से बातचीत के दौरान ये बात कही:

फिर मुस्कुराते हुए उन्होंने कहा कि जब नालंदा विश्वविद्यालय पर एक अधिनियम संसद में पेश किया गया था, तो एक सांसद ने कहा था कि प्रसिद्धविश्वविद्यालय के विध्वंसक ने बख्तियारपुर में अपना शिविर लगाया था। “अब, उसी जगह पैदा हुआ एक आदमी नालंदा विश्वविद्यालय का पुनर्निर्माण कर रहा है।”

भाजपा नेता ने दिया था बख्तियारपुर का नाम बदलने का सुझाव 

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक हरि भूषण ठाकुर ने हाल ही मांग की थी कि बख्तियारपुर का नाम बदला जाना चाहिए क्योंकि यह एक लुटेरे शासक के नाम पर रखा गया है। यह बख्तियारपुर की जनता का अपमान है। ठाकुर ने सुझाव दिया था की नीतीश कुमार का जन्मस्थान होने के नाते से बख्तियारपुर का नाम ‘नीतीश नगर’ कर देना चाहिए। आपको बात दें की बिहार राज्य में भाजपा और जनता दल यूनाइटेड (JDU) की गठबंधन की सरकार है।