Najeeb Hai Kidhar a Poem By Shafin Kaushar

Najeeb Hai Kidhar: A poem about the pain and struggle of a Mother who lost his son.

Najeeb hai Kidhar poem by shafin kausar

Najeeb Hai Kidhar a Poem By Shafin Kaushar. The Poem Najeeb Hai Kidhar is about Disappearance of Najeeb Ahmed. Najeeb Ahmed was a first-year M.Sc. Biotechnology student at JNU, New Delhi. Najeeb went missing from his Mahi-Mandavi hostel on the JNU campus under suspicious circumstances on 15 October 2016.

Fatima Nafees, Najeeb’s Mother has frequently joined activists in protests against the central government and the JNU administration. She joined JNU Students Union in the ‘Light a Ray of Hope for Najeeb’ protest in 2016.

The Poem is about a Mother who is fighting all odds to get Justice for his son. She waited for 4 years in a hope that one day she will meet her lost son. She is still waiting for that moment.

लिखते देखा है कई दीवारों पे
के नजीब है किधर
माँ के अश्क भी चीखे अब सितारों पे
के नजीब है किधर

फिरती परेशान दफ़्तर, नगर, बाज़ारों मे
के नजीब है किधर
माँगी मन्नत हर अदालत और मज़ारों
के नजीब है किधर
है सवाल बस उन तख्त के बीमारों से
के नजीब है किधर

Read Also | OnePlus 8T 5G Launch Price in India starts at Rs 42,999

ये आस उसे की आए खबर कोई किनारों से
के नजीब है इधर

देख मोला बस एक नज़र
ना ज़मीन-ए-करबला ये
है हिंद का दिल्ली शहर
ना ये माँ वो फ़ातिमा है
क्यों मुश्किलात फिर इस क़दर
हां ज़ालिम भी कुछ कम नही
हैं ये यज़ाइदो-ओ-हमसफर

हुई इंतेहाँ अब कर बयाँ
हुए इम्तेहान सब बे असर
ये हर फजर करती दुआ
और हर पहर करती सबर
हुए कई साल, अब बस भी कर
सिर्फ़ एक नज़र, दे दे खबर
के नजीब इसका है किधर

~ शफिन कौसर (Shafin Kausar)

Read Also | एक माँ का दर्द सरकारें नहीं सुना करतीं !!!